बूंदी पायस - Boondi Payas


  द्वारा

5/5 stars  100% LIKED IT    1 REVIEW ALL GOOD
Boondi Payas - Read in English 

Added to 54 cookbooks   This recipe has been viewed 3904 times

खीर का एक मज़ेदार विकल्प, जहाँ दूध को गाढ़ा और स्वादिष्ट बनाने के लिए मीठी बूंदी कका प्रयोग किया गया है। यह ध्यान रखना ज़रुरी है कि बूंदी डालने से पहले दूध को पुरी तरह ठंडा किया जाए, जिससे बूंदी का आकार बना रहे। अगर आप बूँदी गरम या गुनगुने दूध मे डालेंगे, तो बूंदी ज़रुर फैल जाएगी और आपको बेसन के स्वाद वाली खीर प्राप्त होगी।

Add your private note

Boondi Payas recipe - How to make Boondi Payas in hindi

तैयारी का समय:    पकाने का समय:    कुल समय :     ४ मात्रा के लिये
Show me for मात्रा

सामग्री
३/४ कप तैयार मीठी बूंदी
केसर के कुछ लच्छे
१ टी-स्पून गुनगुना वसा भरपुर दूध
५ कप वसा भरपुर दूध
तेज़पत्ता
५ टेबल-स्पून शक्कर
१/२ टी-स्पून गुलाब जल
१ टी-स्पून इलायची पाउडर
१ टेबल-स्पून पिस्ता की कतरन
विधि
  1. एक बाउल में केसर और १ टी-स्पून दूध को अच्छी तरह मिला लें। एक तरफ रख दें।
  2. एक गहरे नॉन-स्टिक पॅन में दूध को तेज़पत्ते के साथ गरम करें और मध्यम आँच पर लगभग २० मिनट के लिए या दूध के आधे कम होने तक उबाल लें और किनारों से दूध को साफ करते रहें।
  3. तेज़पत्ता निकालकर फेंक दें।
  4. शक्कर डालकर अच्छी तरह मिला लें और मध्यम आँच पर, लगातार हिलाते हुए, १ मिनट तक पका लें।
  5. मिश्रण को पुरी तरह ठंडा होने दें।
  6. बूंदी, केसर-दूध का मिश्रण, गुलाब जल, इलायची पाउडर और पिस्ता डालकर हल्के हाथों मिला लें।
  7. कम से कम २ घंटो के लिए फ्रिज में रखकर, ठंडा कर परोसें।


REGISTER NOW If you are a new user.
Or Sign In here, if you are an existing member.

Login Name
Password

Forgot Login / Passowrd?Click here

If your Gmail or Facebook email id is registered with Tarladalal.com, the accounts will be merged. If the respective id is not registered, a new Tarladalal.com account will be created.

Are you sure you want to delete this review ?

Click OK to sign out from tarladalal.
For security reasons (specially on shared computers), proceed to Google and sign out from your Google account.

Reviews

बूंदी पायस
5
 on 14 Nov 16 01:17 PM


Boondi Payas swadisht majedar khir hi hum isko khana khane ki bad khathe hai